RSS

links for 2011-03-08

08 Mar
  • आना
    जब समय मिले
    जब समय न मिले
    तब भी आना

    आना
    जैसे हाथों में
    आता है जांगर
    जैसे धमनियों में
    आता है रक्त
    जैसे चूल्हों में
    धीरे-धीरे आती है आँच
    आना

    आना जैसे बारिश के बाद
    बबूल में आ जाते हैं
    नए-नए काँटे

    दिनों को
    चीरते-फाड़ते
    और वादों की धज्जियाँ उड़ाते हुए
    आना

    आना जैसे मंगल के बाद
    चला आता है बुध
    आना

Advertisements
 
Leave a comment

Posted by on March 8, 2011 in Uncategorized

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: